हास्य आपातकाल और नसबन्दी में

हास्य आपातकाल और नसबन्दी में

1975 में जब आपातकाल लगाया गया तब वह बड़ा भयावह समय था। पर हास्य उस समय भी उपजे बिना न रह सका। उस समय जब डर का माहौल था और लोगों के चेहरों पर से मुस्कान लगभग गायब हो गयी थी, लोगों ने उस समय भी मुस्कान लौटाने के लिए हास्य का ही सहारा लिया।

उन दिनों श्रीमती इंदिरा गांधी की गद्दी के स्पष्ट दावेदार संजय गांधी की ही तूती बोलती थी। उनके इशारे के बिना तो कहते हैं पत्ता भी नहीं हिल पाता था। उन पर कई फब्तियां कसीं गयीं। उस समय संजय का स्वप्निल प्रॉजेक्ट छोटी कार मारुती नयी-नयी चर्चा में थी। तो लोग कहते थे कि यह कार मारुती नहीं ‘मां-रोती’ है।

संजय गांधी तब युवा नेता के रूप में उभरे थे। युवा कांग्रेस का बोलबाला था। सभी उस के सदस्य बनना चाहते थे। युवा कांग्रेस का सदस्य होना उस समय एक ग्लैमर और गौरव का विषय था। उस समय एक कार्टून आया। उस में एक बूढा कांग्रेसी नेता लाठी के सहारे युवा कांग्रेस कार्यालय पहुंचा और उसका सदस्य बनने का आग्रह करने लगा। उसका दावा था कि अपने वक्त में तो वह भी सुडौल, सुन्दर और शूरवीर जवान थे। तब सुंदरियां हम पर मरा करतीं थीं। हमारे साथ आंख लड़ाने के लिए तरसती थीं।

संजय गांधी ने नसबंदी पर बड़ा जोर दिया था। वह देश की आबादी पर नियंत्रण रख कर देश को आगे ले जाना चाहते थे। आंदोलन तो बड़ा अच्छा था पर कुछ गलत रास्ते पर धकेल दिया गया जिस कारण बाद की सरकारें उस पर ध्यान न दे पाईं क्योंकि उनको भी यही खतरा रहा कि उनकी भी बाद में हालत वही न हो जाये जो आपातकाल हटने के बाद हुये 1977 के चुनाव में श्रीमती गांधी, स्वंय संजय गांधी और कांग्रेस की हुयी।

उन दिनों नसबंदी पर इतना जोर था कि सरकार का सारा ध्यान ही उधर केंद्रित लगता था। सरकारी अफसरों को नसबंदी के मासिक लक्ष्य दे दिए गए थे। वह अपने विभाग का कार्य न कर जैसे भी हो कोई ऐसी नयी मुर्गी फंसाने में जुटे रहते थे कि उनका लक्ष्य पूरा हो जाये।

उन दिनों भूमिहीनों को भूमि देने पर बड़ा जोर था। कई स्थानों पर तो भूमिहीनों को जमीन की पट्टे देने के बहाने बुलाया और साथ में उन सब की नसबंदी कर दी।

सरकारी अफसर और कर्मचारी भी मुसीबत में रहे। जिनकी उम्र 50 से कम थी उनकी तो शामत आ गयी थी। नसबंदी उनकी पदोन्नति, सालाना वेतन वृद्धि, गृह ऋण आदि की लिए आवश्यक योग्यता व वरीयता बन गयी थी। अगर उनके पास नसबंदी सर्टिफिकेट नहीं तो समझो उनके पास कुछ नहीं। वह किसी योग्य नहीं। वह किसी चीज की पात्र नहीं।

जिनके दो से अधिक बच्चे थे वह तो किसी भी हालत में बख्शे ही नहीं जा सकते थे। कुछ लोग टालमटोल करने की कोशिश करते रहे पर उनकी हालत थी कि बकरे की मां कब तक खैर मनाएगी।

एक प्रदेश में एक स्कूल भवन में नसबंदी का एक शिविर लगाया गया। मंत्री महोदय ने उसका उद्घाटन किया। उसी शाम कुछ ऑपरेशन कर दिए गये। कुछ इन्फेक्शन वगैरा हो गयी जिस कारण दो आदमियों की मृत्यु हो गयी। बस फिर क्या था? ज्योंही बात फैली, किसी ने स्कूल का  दरवाजा नहीं ढूंढा। शिविर में आये सभी वालंटियर स्कूल के कमरों की खिड़कियों से ही छलांग लगा कर भाग गए।

कुछ अफसर इस ताक में थे कि नसबंदी का लक्ष्य पूरा करने की लिए कोई मुर्गी फंसे। उन्हें एक अधेड़ व्यक्ति मिला जो कुछ सामान्य नहीं था। बात भी वह पूरी तरह नहीं कर सकता था। उस से पूछा कि उसके कितने बच्चे हैं। लडख़ड़ाती आवाज में उसने कहा – चार। तब तो तुम्हें अपना नसबंदी आपरेशन अवश्य करवा लेने चाहिए। उन्होंने उसकी नसबंदी करवा दी। बाद में धन्यवाद करते हुये उसकी पीठ थपथपाते हुए एक अफसर ने कहा – खुश हो जा, अब और बच्चे नहीं होंगे। खीज में उसने कहा – नहीं, होते रहेंगे।

अफसर ने फिर आश्वासन दिया – नहीं, अब तुम्हारी नसबंदी कर दी गयी है। अब नहीं होंगे। नहीं – उसने जोर देकर कहा। होते रहेंगे। पहले भी मेरे नहीं हैं।

इससे तो ऐसी ही एक और अजीब घटना याद आ जाती है। लोग अपने दु:ख के समय भी अपने हास्य व व्यंग्य का पुट नहीं भूलते। एक व्यक्ति को रास्ते में अकेला आता देख चार-पांच व्यक्ति टूट पड़े। ”नंदू, तेरी मां…तेरी बहन…’’ की गन्दी गालियां देते हुयी उस पर घूसे पे घुसा जड़े जा रहे थे। जब उसे बेहाल देख कर वह जाने लगे तो मार से अधमरा वह कराहते हुए भी अपने मुंह पर मुस्कान लाने के कोशिश करता वह बेचारा उन पर फब्ती कसने से न चूका। उसने कहा – देखा, बना दिया न मूर्ख। मैं तो नंदू हूं ही नहीं।

पर कई बार नसबंदी ऑपरेशन परिवार में परेशानी का कारण भी बन गया।

कई ऐसे भी उदहारण पैदा हो गए जहां पति की नसबंदी कर दी गयी थी। कई बार ऐसा हुआ कि आपरेशन के बावजूद पत्नी गर्भवती हो गयी। पति उस पर शक करने लगा। घर में तनाव हो गया। मामला तो तब सुलझा, जब डाक्टर ने पति के जांच की और पाया कि उसका नसबंदी ऑपरेशन विफल रहा था और दोबारा किया गया।

कई सच्चे-पक्के भी थे। एक पति-पत्नी को परिवार नियोजन की आवश्यकता समझ आ गयी। उस का एक बेटा था। दोनों ने संकल्प ले लिया कि अब जो भी हो, नए बच्चे के जन्म के बाद वह आपरेशन करवा लेंगे। पर ईश्वर की मर्जी देखो। जब प्रसव के समय आया तो इकट्ठे ही तीन बच्चे पैदा हो गए।

जब 1977 में चुनाव हुए तो उस समय आपातकाल हटाया नहीं गया था। उसे निरस्त ही किया गया था। लोग उस समय भी चुटकी लेने से बाज नहीं आये। नसबंदी की याद दिलाते हुए एक दूसरे को सावधान करते थे – भैय्या, वोट करते समय ध्यान रखना। अभी तो उन्होंने कनेक्शन ही काटा है, चुनाव के बाद तो वह मीटर भी काट कर ले जायेंगे। (वह नसबंदी की तुलना बिजली का कनेक्शन काटने और मीटर उठा ले जाने से कर रहे थे)

वैसे परिवार नियोजन का मामला वैयक्तिक स्वतंत्रता और निजता का भी बनता है। कोई दम्पति बच्चे पैदा करे या न करे और कितने करे, इसमें निजता और वैयक्तिक स्वतंत्रता भी तो आ जाती है। फिर नसबंदी तो पति-पत्नी के बीच भी विवाद और पहले-आप, पहले-आप का उदाहारण बन गया। पति चाहता था कि आपरेशन पत्नी करवाए और पत्नी चाहती थी कि पति। कई तो पत्नियों ने ही आपरेशन करवाने की पहल कर दी। उन्होंने दूर की सोची। यदि कभी किसी कारण किसी हालत में घर में नए आगंतुक की आवश्यकता ही पड़ जाये तो पति को तो उसके लिए सक्षम ही रहना चाहिए।

उन्हीं दिनों एक मतदाता तो और भी होशियार निकला। उसने अपने घर के बाहर अपनी नाम-पट्टिका के नीचे नोटिस टांग दिया:  वही प्रत्याशी मुझसे मेरा कीमती वोट मांगने आयें जो अपनी नसबंदी का अपना सर्टिफिकेट साथ लाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.