item-thumbnail

क्रिकेट व पालिटिक्स में अन्तर कितना?

0 May 18, 2017

विश्व में सब से पहले अण्डा आया या मुर्गी? यह एक ऐसी पहेली है जिसे विश्व के बड़े-बड़े विचारक अभी तक ठीक से सुलझा न पाये हैं। इसी प्रकार एक और पहेली उभर...

item-thumbnail

जीते तो हम स्वयं, हारे तो हराये ईवीमए ने

0 May 4, 2017

बेटा- पिताजी। पिता- हां, बेटा। बेटा- पिताजी, मैंने अपने एक दोस्त से सुना है कि हिमाचल के एक मन्त्री कहते थे कि ईश्वर से बड़ा कोई सियासतदान नहीं है। पि...

item-thumbnail

जनता व षड्यंत्रकारी दोनों केजरीवालजी के पीछे

0 April 21, 2017

बेटा: पिताजी। पिता: हां, बेटा। बेटा: मैं तो केजरीवालजी का फैन पहले ही था पर अब बहुत बड़ा बन गया हूं। पिता: क्या घर के लिेये तू कोई बड़ा फैन ले आया है?...

item-thumbnail

शहीद पुत्री ने बनाई अपनी पहचान

0 March 22, 2017

बेटा: पिताजी। पिता: हां, बेटा बेटा: पिताजी, गुरमेहर तो बहुत दिलेर विद्यार्थी निकली। पिता: हां बेटा। ऐसी क्यों न निकलती। आखिर वह एक बहादुर सेना अधिकारी...

item-thumbnail

आज के युग में दोस्तों की कमी नहीं

0 March 7, 2017

पुरानी कहावत है कि दोस्त वह जो वक्त पर काम आये। लोग यह भी कहते हैं कि अच्छा दोस्त मुश्किल से, किस्मत से ही मिलता है। पर यह तो बात पुरानी हो गयी। अब तो...

item-thumbnail

जय हो भंसालीजी! आपने तो मेरा जीवन ही सुखमय कर दिया

0 February 19, 2017

प्रसिद्ध फिल्म निर्माता संजय भंसाली ने तो मेरी सोच ही बदल दी है। मेरा तो जीवन ही खुशिओं से भर दिया है। मुझे तो मीडिया से ही पता चला कि अल्लाउद्दीन खिल...

item-thumbnail

मैं गधा ही ठीक हूं, मुझे इंसान नहीं बनना

0 February 8, 2017

जी हां, मैं गधा हूं। मनुष्य का साथी। उसका दायां हाथ। मैं उसके बहुत काम आता हूं। यदि मैं न होता, मनुष्य का बोझा न ढोता तो आज आदमी इतनी तरक्की कर लेने क...

item-thumbnail

आतंकी मेरे भाई, पर अब नहीं

0 January 26, 2017

अभी हाल ही तक मैं अपने भाई आतंकवादियों का बहुत बड़ा फैन था। मैं समझता था कि ईश्वर ने उन्हें मुझ जैसे दीन-दुखियों, दलित, पिछड़े, व समाज द्वारा सताए व त...

item-thumbnail

सांस्कृतिक उत्थान तो अवश्य हुआ है

0 January 11, 2017

भारत के स्वतंत्र होने के बाद किस क्षेत्र में विकास हुआ और किस में नहीं, इस पर तो दो राय हो सकती हैं। पर जहां तक सांस्कृतिक विकास का सवाल है उसमें तो ह...

item-thumbnail

पालिटिक्स में कुछ भी आरोप लगाने की स्वतन्त्रता

0 December 29, 2016

बेटा: पिताजी। पिता: हां, बेटा। बेटा: यह पालिटिक्स राजनीति भारत में कोई नई चीज है? पिता: नहीं, बेटा। यह तो भारत में जब से सभ्यता का उदय हुआ है तब से ही...

1 2 3 4