item-thumbnail

पालिटिक्स की अनबूझ पहेली

0 August 10, 2017

बेटा : पिताजी। पिता : हां, बेटा। बेटा : पिताजी, लगता है हमारे नेता लालू प्रसाद जी के ग्रह ठीक नहीं चल रहे हैं। पिता : तूनें किस ज्योतिषी को उनकी जन्मप...

item-thumbnail

सोशल मीडिया के क्या कहने

0 July 28, 2017

बेटा: पिताजी। पिता: हां, बेटा। बेटा: पिताजी, मैं तो बहुत लोकप्रिय हो गया हूं। पिता: अच्छा? तुझे कैसे पता? बेटा: पिताजी, मैं जब भी फेसबुक के अपने पेज प...

item-thumbnail

रिश्ते-नाते प्यार-वफा सब बाते हैं

0 July 13, 2017

शरीर  तो  नश्वर  है, आने-जाने वाली वस्तु। आज यहां, कल वहां। अगर  कुछ निरंतर है  तो  वह  है आत्मा। इसीलिये तो हमारे संत-महात्मा कहते हैं कि प्यार करना ...

item-thumbnail

उनकी हिम्मत कैसे हुई बड़ों पर उंगली उठाने की?

0 June 29, 2017

बेटा: पिताजी। पिता: हां, बेटा। बेटा:  खुशखबरी। अब तो समझो आपका बेटा चोरी के अपराध से बरी हो गया। पिता:  तू तो बेटा रंगे हाथों पकड़ा गया था। यह कैसे सम...

item-thumbnail

पढिय़े विज्ञापन और त्यागिये आत्महत्या का इरादा

0 June 15, 2017

रोज बढ़ रहे आत्महत्या के मामलों को पढ़ कर बड़ा दु:ख होता है। ऐसा लगता है कि ऐसा कायराना कदम उठाने वाले व्यक्ति टीवी नहीं देखते व अखबार नहीं पढ़ते। पर ...

item-thumbnail

अब रिश्तों में रखा क्या है?

0 June 1, 2017

आजकल लोग रिश्तों को महत्व नहीं देते। लेकिन मैं तो समझता हूं कि जीवन में रिश्ते-नाते ही तो हैं  सब कुछ। वरन् न जीवन होता और न समाज। न ही देश व राष्ट्र।...

item-thumbnail

क्रिकेट व पालिटिक्स में अन्तर कितना?

0 May 18, 2017

विश्व में सब से पहले अण्डा आया या मुर्गी? यह एक ऐसी पहेली है जिसे विश्व के बड़े-बड़े विचारक अभी तक ठीक से सुलझा न पाये हैं। इसी प्रकार एक और पहेली उभर...

item-thumbnail

जीते तो हम स्वयं, हारे तो हराये ईवीमए ने

0 May 4, 2017

बेटा- पिताजी। पिता- हां, बेटा। बेटा- पिताजी, मैंने अपने एक दोस्त से सुना है कि हिमाचल के एक मन्त्री कहते थे कि ईश्वर से बड़ा कोई सियासतदान नहीं है। पि...

item-thumbnail

जनता व षड्यंत्रकारी दोनों केजरीवालजी के पीछे

0 April 21, 2017

बेटा: पिताजी। पिता: हां, बेटा। बेटा: मैं तो केजरीवालजी का फैन पहले ही था पर अब बहुत बड़ा बन गया हूं। पिता: क्या घर के लिेये तू कोई बड़ा फैन ले आया है?...

item-thumbnail

शहीद पुत्री ने बनाई अपनी पहचान

0 March 22, 2017

बेटा: पिताजी। पिता: हां, बेटा बेटा: पिताजी, गुरमेहर तो बहुत दिलेर विद्यार्थी निकली। पिता: हां बेटा। ऐसी क्यों न निकलती। आखिर वह एक बहादुर सेना अधिकारी...

1 2 3 5