item-thumbnail

गौ-संवर्धन: समय की मांग

0 May 18, 2017

गाय का स्थान हमारे समाज में ऊंचा है। वार्षिक पंचांग में गोपूजा के लिए विशेष पर्व और दिन निर्धारित कर दिए गए हैं। जैसे दीपावली से तीन दिन  पहले बछवारस ...

item-thumbnail

मन के हारे हार है, मन के जीते जीत

0 May 18, 2017

इतिहास में घटने वाले अनेक महायुद्धों की तरह ही हमारे अंदर भी निरंतर एक महायद्ध चलता रहता है। यह युद्ध  किसी को दिखता नहीं, लेकिन इसका असर सबके जीवन पर...

item-thumbnail

क्रिकेट व पालिटिक्स में अन्तर कितना?

0 May 18, 2017

विश्व में सब से पहले अण्डा आया या मुर्गी? यह एक ऐसी पहेली है जिसे विश्व के बड़े-बड़े विचारक अभी तक ठीक से सुलझा न पाये हैं। इसी प्रकार एक और पहेली उभर...

item-thumbnail

‘मैं नौकरी मांगने वाला नहीं देने वाला बनूंगा’

0 May 18, 2017

नाम- नरप्पा टी उम्र- 23  साल काम- बेंगलुरू में टैक्सी ड्राइवर नरप्पा जिन्हे उनके दोस्त नरेश के नाम से बुलाते हैं, से मेरी मुलाकात अक्समात ही पिछले हफ्...

item-thumbnail

केजरीवाल बाघ थे बघेला कैसे हो गये?

0 May 18, 2017

आजकल उल्टी गिनती एक ‘सूचक’बन गई है, किसी महत्वपूर्ण काम की शुरुआत के लिए या किसी बड़े बदलाव के लिए। हमारे यहां भी कई उल्टी गिनतियां चल रही हैं। एक महत...

item-thumbnail

कश्मीर: आजादी से  जिहाद की ओर

0 May 18, 2017

कश्मीर घाटी भारी ऊथल-पुथल  के दौर से गुजर रही है।  कहा जाता था कि पहले वहां आंदोलन कश्मीरियत की रक्षा के लिए था मगर कश्मीरियत एक मुखौटा साबित हुआ। अब ...

item-thumbnail

आतंकवाद से लडऩे के नाम पर अब मुस्लिम ‘नाटो’

0 May 18, 2017

दूसरे विश्वयुद्ध के बाद दुनिया के क्षितिज पर पहली बार धर्म पर आधारित सैनिक गठबंधन उभरा है जिसे मुस्लिम नाटो या इस्लामिक नाटो भी कहा जा रहा है। कुछ राज...

item-thumbnail

भूमि सुधार और विकास नक्सलवाद की समस्या का स्थायी समाधान

0 May 18, 2017

नक्सलवाद आज देश की प्रमुख समस्या है। स्वतन्त्रता के बाद नक्सलवाद ने जितने बलिदान लिए हैं उतने शायद अन्य किसी घटना या आन्दोलन ने नहीं। अब यह आन्दोलन रु...

item-thumbnail

अदालतों की व्यवस्था सुधारनी ही होगी

0 May 18, 2017

हमारे देश की न्याय व्यवस्था पर मुकदमों का बोझ कम होने के स्थान पर लगातार बढ़ता जा रहा है। जब भी अदालतों में बढ़ते मुकदमों या एक-एक मुकदमें के निर्णय म...

item-thumbnail

मुनि श्री ऋषभचन्द्र विजयजी एक सक्षम एवं तेजस्वी आचार्य

0 May 18, 2017

भारत अपनी अध्यात्म प्रधान संस्कृति से विश्रुत था किन्तु आज इसने ‘जगद्गुरु’होने की पहचान खो दी है। खोयी हुई पहचान को पुन: प्राप्त करने एवं अध्यात्म के ...

1 2 3 179